कुसुमसमुदिता छंद 

“शृंगार वर्णन”

गौर वरण शशि वदना।
वक्र नयन पिक रसना।।
केहरि कटि अति तिरछी।
देत चुभन बन बरछी।।

बंकिम चितवन मन को।
हास्य मधुर इस तन को।।
व्याकुल रह रह करता।
चैन सकल यह हरता।।

यौवन उमड़ विहँसता।
ठीक हृदय मँह धँसता।।
रूप निरख मन भटका।
कुंतल लट पर अटका।।

तंग वसन तन चिपटे।
ज्यों फणिधर तरु लिपटे।।
हंस लजत लख चलना।
चित्त-हरण यह ललना।।
============

कुसुमसमुदिता छंद विधान –वर्णिक छंद परिभाषा<–लिंक

“भाननगु” गणन रचिता।
छंदस ‘कुसुमसमुदिता’।।

“भाननगु” = भगण नगण नगण गुरु

(211 111 111  2)

10वर्ण का वर्णिक छंद, 4 चरण, दो-दो चरण समतुकांत।
****************

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©
तिनसुकिया

4 Responses

  1. इस छंद में सौंदर्य का अनुपम नख सिख वर्णन हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.