गाथ छंद

‘वृक्ष पीड़ा’

वृक्ष जीवन देते हैं।
नाहिं ये कुछ लेते हैं।
काट व्यर्थ इन्हें देते।
आह क्यों इनकी लेते।।

पेड़ को मत यूँ काटो।
भू न यूँ इन से पाटो।
पेड़ जीवन के दाता।
जोड़ लो इन से नाता।।

वृक्ष दुःख सदा बाँटे।
ये न हैं पथ के काँटे।
मानवों ठहरो थोड़ा।
क्यों इन्हें समझो रोड़ा।।

मूकता इनकी पीड़ा।
काटता तु उठा बीड़ा।
बुद्धि में जितने आगे।
स्वार्थ में उतने पागे।।
=============

गाथ छंद विधान – (वर्णिक छंद परिभाषा)

सूत्र राच “रसोगागा”।
‘गाथ’ छंद मिले भागा।।

“रसोगागा” = रगण, सगण, गुरु गुरु
212 112 22 = 8 वर्ण
चार चरण, दो दो समतुकांत।
*****************

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©
तिनसुकिया

8 Responses

  1. मानव के स्वार्थ के आगे वृक्षों, जीवों की पीड़ा क्या महत्व रखती है। अंधाधुंध जंगलों की कटाई पर बहुत मार्मिक रचना।

Leave a Reply

Your email address will not be published.