मंदाक्रान्ता छंद

विषय-साध्य की खींच रेखें

गाना होता,मगन मन से,राम का नाम प्यारे।
आओ गाएँ,हम-तुम सभी,त्याग दें काम सारे।।
मिथ्या जानो,जगत भर के,रूप-लावण्य पाए।
वेदों के ये,वचन पढ़ के,काव्य के छंद गाए।।

भीगी आँखें,रुदन करतीं,कौन देखे बताओ।
आओ-आओ,किरन कहती,पीर भारी मिटाओ।।
देखा-देखी,भ्रम रत सभी,काम के बीज बोते।
भारी पीड़ा,हृदय भर के,आप ही आप ढोते।।

काँटा जानो,बरबस मिली,जो सुहानी लुभाती।
मुठ्ठी तानो,गरल सम जो,खाज सी है सुहाती।।
रोगी होना,रुदन करना,रक्त ही है बहाना।
आँसू खारे,नयन भर के,भोगना जेल खाना।।

जागो-जागो,मनमथ तजो,रुग्ण क्यों आप होते।
मिथ्या जो है,दुख मय सभी,क्लेश के बीज बोते।।
प्रातः होते,रवि किरन है,रूप खोले सुहाती।
आओ ले लो,इस हृदय की, सौंपती आज थाती।।

श्यामा-श्यामा,भजन करना,है तभी मौज जानो।
मिथ्या है जो,इस क्षण तजो,पाप ही पाप मानो।।
कल्याणी हैं,जगत जननी,अंक के छाँव लेतीं।
राधा रानी,मगन जब हों,सौख्य का दान देतीं।।

वंशी बाजे,श्रवण करके,राधिका दौड़ देखें।
साथी मेरे,दृढ़ मन धरो,साध्य की खींच रेखें।
गीता वाणी,मनन करना,लक्ष्य को सिद्ध जानो।
देखो-देखो,हरि चरण में,शाँति को प्राप्त मानो।।

*****

विधान – –> लिंक

बाबा कल्पनेश

3 Responses

  1. आदरणीय बाबा कल्पनेश जी मंदाक्रान्ता जैसी श्रम साध्य सनातन छंद में साध्य की साधना हेतु अनेक उपायों का दिग्दर्शन कराती सीख से भरी आपकी इस रचना को नमन।
    कविकुल में आपके जुड़ने का हार्दिक स्वागत है। हिन्दी के विशाल छंद के खजाने से पाठकों का उत्तम रचनाओं और छंद के पूर्ण विधान से परिचय कराना इस वेब साइट का उद्देश्य है। आपका सानिध्य पाकर पाठक वृंद धन्य हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.