विमलजला छंद

“राम शरण”

जग पेट भरण में।
रत पाप करण में।।
जग में यदि अटका।
फिर तो नर भटका।।

मन ये विचलित है।
प्रभु-भक्ति रहित है।।
अति दीन दुखित है।।
हरि-नाम विहित है।।

तन पावन कर के।
मन शोधन कर के।।
लग राम चरण में।
गति ईश शरण में।।

कर निर्मल मति को।
भज ले रघुपति को।।
नित राम सुमरना।
भवसागर तरना।।
=============

विमलजला छंद विधान:- (वर्णिक छंद परिभाषा)

“सनलाग” वरण ला।
रचलें ‘विमलजला’।।

“सनलाग” = सगण नगण लघु गुरु

112 111 12 = 8 वर्ण
चार चरण। दो दो समतुकांत
********************
बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©
तिनसुकिया

8 Responses

  1. इस रचना मेंं जीवन का अंतिम सत्य उड़ेल के रख दिया है। सच है “गति ईश शरण में” ही है।

  2. एक अच्छी शिक्षा,अच्छा भाव ।। हार्दिक प्रणाम।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.