सार छंद

“महर्षि वाल्मीकि”

दस्यु राज रत्नाकर जग में, वाल्मीकि कहलाए।
उल्टा नाम राम का इनको, नारद जी जपवाए।।
मरा मरा से राम राम की, सुंदर धुन जब आयी।
वाल्मीकि जी ने ब्रह्मा सी, प्रभुताई तब पायी।।

घोर तपस्या में ये भूले, तन की सुध ही सारी।
दीमक इनके तन से चिपटे, त्वचा पूर्ण खा डारी।।
प्रणय समाहित क्रोंच युगल को, तीर व्याध जब मारा।
प्रथम अनुष्टुप छंद इन्होंने, करुणा में रच डारा।।

विधि तब प्रगटे, बोले इनसे, शारद मुख से फूटी।
राम-चरित की मधुर पिलाओ, अब तुम जग को बूटी।।
रामायण से महाकाव्य की, इनने सरित बहायी।
करे निमज्जन उसमें ये जग, होते राम सहायी।।

शरद पूर्णिमा के दिन इनकी, मने जयंती प्यारी।
कीर्ति पताका जग में फहरे, शरद चन्द्र सी न्यारी।।
शत शत ‘नमन’ आदि कवि को है, चरणों में है वन्दन।
धूम धाम से इस अवसर पर, सभी करें अभिनन्दन।।

****************

सार छंद विधान – (मात्रिक छंद परिभाषा)

सार छंद चार पदों का अत्यंत गेय सम-पद मात्रिक छंद है। प्रति पद 28 मात्रा होती है। यति 16 और 12 मात्रा पर है। दो दो पद तुकान्त।

मात्रा बाँट –
16 मात्रिक चरण ठीक चौपाई छंद वाला और 12 मात्रा वाले चरण में तीन चौकल, एक चौकल और एक अठकल या एक अठकल और एक चौकल हो सकता है। 12 मात्रिक चरण का अंत गुरु या 2 लघु से होना आवश्यक है किन्तु गेयता के हिसाब से गुरु-गुरु से हुआ चरणान्त अत्युत्तम माना जाता है लेकिन ऐसी कोई अनिवार्यता भी नहीं है।

छन्न पकैया – इसी छंद का एक और प्रारूप है जो कभी लोक-समाज में अत्यंत लोकप्रिय हुआ करता था। किन्तु अन्यान्य लोकप्रिय छंदों की तरह रचनाकारों के रचनाकर्म और उनके काव्य-व्यवहार का हिस्सा बना न रह सका। सार छंद के इस प्रारूप को ’छन्न पकैया’ के नाम से जानते हैं। सार छंद के प्रथम चरण में ’छन्न-पकैया छन्न-पकैया’ लिखा जाता है और आगे छंद के सारे नियम पूर्ववत निभाये जाते हैं।

’छन्न पकैया छन्न पकैया’ एक तरह से टेक हुआ करती है जो उस छंद के कहन के प्रति श्रोता-पाठक का ध्यान आकर्षित करती हुई एक माहौल बनाती है। इस में रचनाकार बात की बात में, कई बार गहरी बातें साझा कर जाते हैं।

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©
तिनसुकिया

10 Responses

  1. सार छंद के माध्यम से आदि कवि वाल्मीकि जी पर अति मनमोहक विस्तृत जानकारी देता हुआ अति प्रसंसनीय सृजन हुआ है।
    इस रचना की आपकी हृदय से बधाई देती हूँ।
    माँ सरस्वती की कृपा आप पर सदैव बनी रहे।

  2. वाल्मीकि जयंती के शुभावसर पर आपकी कविता के माध्यम से आदिकवि की विस्तृत जानकारी मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published.