किशोर छंद

किशोर मुक्तक “कोरोना”

भारी रोग निसड़लो आयो, कोरोना,
सगलै जग मैं रुदन मचायो, कोरोना,
मिनखाँ नै मिनखाँ सै न्यारा, यो कीन्यो
कुचमादी चीन्याँ रो जायो, कोरोना।
*** ***

किशोर मुक्तक “बालाजी”

एक आसरो बचग्यो थारो, बालाजी।
बेगा आओ काम सिकारो, बालाजी।
जद जद भीड़ पड़ी भकताँ माँ, थे भाज्या।
दोराँ दिन से आय उबारो, बालाजी।।
*** ***

किशोर छंद विधान – (मात्रिक छंद परिभाषा) <–लिंक

किशोर छंद मूल रूप से एक मात्रिक छंद है। इसके प्रत्येक पद मे 22 मात्राएँ होती हैं तथा यति 16 व 6 मात्राओं पर होती है। पद की मात्रा बाँट – अठकल*2, द्विकल*3 होती है। इसमे पदांत मगण (222) से हो तो यह छंद और भी सुंदर हो जाता है। इस छंद में चारों पद समतुकांत रखे जाते हैं।

किशोर मुक्तक :- किशोर छंद के यदि तीसरे पद को भिन्न तुकांत कर दें तो यही ‘किशोर मुक्तक’ में परिवर्तित हो जाता है।

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©
तिनसुकिया

4 Responses

  1. किशोर छंद में मारवाड़ी भाषा पर समसामयिक कोरोना पर बहुत बढ़िया मुक्तक।
    संकटमोचन बालाजी से कष्ट निवारण हेतु सुंदर मुक्तक हुआ है भैया।

  2. किशोर छंद में मायड़ भाषा राजस्थानी में दोनों ही बहुत प्यारे मुक्तक।

Leave a Reply

Your email address will not be published.